केन्द्रीय कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी ने मेगा माईन्स का अवलोकन किया एवं समीक्षा बैठक ली

Union Coal Minister Pralhad Joshi visited Mega Mines and took review meeting

बिलासपुर (media saheb.com) केन्द्रीय कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी चकरभाटा हवाई अड्डे से सड़क मार्ग से प्रमोद अग्रवाल चेयरमेन कोलइण्डिया लिमिटेड, व्ही.के. तिवारी अपर सचिव कोयला मंत्रालय भारत सरकार, बी.पी. पति संयुक्त सचिव कोयला मंत्रालय भारत सरकार, एसईसीएल के सीएमडी ए.पी. पण्डा, मुख्य सतर्कता अधिकारी बी.पी. शर्मा, निदेशक तकनीकी (संचालन) एम.के. प्रसाद, निदेशक (वित्त सह कार्मिक) एस.एम. चौधरी, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) एस.के. पाल के साथ कोरबा कोलफील्ड पहुँचे। जहाँ इन्होंने  एसईसीएल की दीपका, गेवरा व कुसमुण्डा खदान का दौरा किया। यह खदानें भारत की मुख्य खदानों में से हैं। श्री जोशी ने वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत की और उनसे कोयला उत्पादन एवं डिस्पैच बढ़ाने का आव्हान किया। 

दीपका कोयला खदान के साइलो लोडिंग सिस्टम का निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को सभी बाधाएँ दूर कर थर्मल पावर प्लांट्स को कोयला डिस्पैच बढ़ाने के लिए काम करने का निर्देश दिया। कोयला मंत्री ने छत्तीसगढ़ के दीपका कोयला खदान की रेलवे साइडिंग का दौरा किया। साईडिंग यार्ड में कोयला स्टॉक की स्थिति का अवलोन किया और साईडिंग प्रभारी एवं अन्य अधिकारियों के साथ बातचीत की।

दीपका खदान के बाद श्री जोशी गेवरा माईंस पहुँचे जहाँ उन्होंने खदान का अवलोकन किया एवं खदान की उत्पादन-उत्पादकता एवं डिस्पैच की जानकारी ली। अगले चरण में वे देर शाम कुसमुण्डा साईलो का निरीक्षण कर कोयला परिवहन की प्रक्रिया को बारिकी से देखा। 

इसके उपरांत केन्द्रीय कोयला मंत्री श्री जोशी द्वारा समीक्षा बैठक ली गयी जिसमें एसईसीएल के शीर्ष प्रबंधन, राज्य शासन की ओर से कलेक्टर कोरबा तथा एसपी कोरबा एवं मेगा परियोजनाओं के महाप्रबंधक शामिल हुए। इस समीक्षा बैठक में उत्पादन में आ रही प्रत्येक समस्या पर गहनता से विचार किया गया जिनमें कॉन्ट्रैक्ट अवार्ड किया जाना, मानसून, रेल रैक की उपलब्धता, भूविस्थापित, बसाहट आदि मुद्दो पर चर्चा हुई। बैठक में राज्य शासन की ओर से भूविस्थापित एवं अतिक्रमणकारी की समस्या पर काबू एवं निजात पाने में भरसक सहयोग का आश्वासन दिया गया। (For English News : thestates.news)

Share This Link